Hindi Speech

15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस पर भाषण हिंदी में

क्या आप 15 अगस्त पर भाषण (15 August Speech in Hindi) की तलाश कर रहे हैं तो आपकी तलाश खत्म हुई और आप एक सही जगह पर आ चुके हैं

आज मैं आपको सिखाऊंगा की स्वतंत्रता दिवस पर कैसे आप भाषण बोल सकते हैं जोकि सबको पसंद आएगा. इस पोस्ट में 6 सबसे सरल और जबरदस्त भाषण बताये गए है. तो आइए Independence Day Speech in Hindi pdf पढ़ते हैं

1) 15 अगस्त की स्पीच – Short Speech on 15 August in Hindi

माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय शिक्षकगण और मेरे प्यारे देशवासियों, आज हम भारत के 77 वें स्वतंत्रता दिवस को मनाने के लिए यहाँ एकत्रित हुए हैं. यह हमारा महत्वपूर्ण राष्ट्रीय पर्व है. इस पावन अवसर पर आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !

भारत को ब्रिटिश शासन से 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली. यह वह दिन है जब हमें भारत के महान स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा कई वर्षों के कठिन संघर्ष के बाद ब्रिटिश शासन से आजादी मिली

हम भगत सिंह, खुदी राम बोस और चन्द्रशेखर आजाद के बलिदानों को कभी नहीं भूल सकते, जिन्होंने अपने देश के लिए कम उम्र में ही अपनी जान गवां दी थी. हम नेताजी और गाँधीजी के सभी संघर्षो को कैसे अनदेखा कर सकते हैं ? गाँधीजी एक महान भारतीय व्यक्तित्व थे जिन्होंने भारतीयों को अहिंसा का एक बड़ा पाठ पढ़ाया था

स्वतंत्रता के बाद हमारा भारत देश विज्ञान, प्रौद्योगिकी, शिक्षा, खेल जैसे कई क्षेत्रों में उन्नति कर रहा है. हमें अपनी सरकार चुनने और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का आनंद लेने का पूरा अधिकार है. परन्तु आज भी हमारे देश में भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, असमानता, अशिक्षा जैसी समस्याएँ हैं

देश के जिम्मेदार नागरिक होने के नाते आज हम सब प्रतिज्ञा करते हैं, कि इन समस्याओं को सुलझाने के लिए हम पूरे प्रयास करेंगे और भारत को विश्व का बेहतरीन देश बनाएँगे

जय हिन्द, जय भारत !

Read This :- स्वतंत्रता दिवस पर जबरदस्त हिंदी शायरी

2) स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण – Independence Day Speech in Hindi

“सच्ची है देशभक्ति
और मैं वतन पर ईमान रखता हूँ
तिरंगे की शान की खातिर
हथेली पर जान रखता हूँ”

माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय शिक्षकगण और मेरे प्यारे दोस्तों, आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज 15 अगस्त है और आज हम सभी लोग यहाँ स्वतंत्रता दिवस की 77वीं वर्षगाँठ मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं. 76 वर्ष पूर्व आज ही के दिन 15 अगस्त सन् 1947 को हमारा देश भारत अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था

लेकिन ये आजादी हमें ऐसे ही नहीं मिली थी, इस आजादी की बहुत बड़ी कीमत हमारे देश के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने चुकाई थी और उनकी उन्हीं कुर्बानियों को हम याद करते हैं

“मरने के बाद भी, जिनके नाम में जान है
ऐसे जाबाज सैनिक, हमारे देश की शान हैं”

आज हम सभी को सबसे पहले उन सभी वीर सैनिकों को नमन करना चाहिए. आज का यह दिन हमें महात्मा गाँधी, सरदार भगत सिंह, मंगल पांडे, सरदार बल्लभ भाई पटेल, चन्द्रशोखर आजाद, रानी लक्ष्मीबाई, मौलाना अबुल कलाम, लाला लाजपत राय, अशफाक उल्ला खान जैसे ऐसे सैकड़ों महान स्वतंत्रता सेनानियों के त्याग और बलिदान की याद दिलाता है

स्वतंत्रता के बाद हमारा भारत देश विज्ञान, खेती, क्रीड़ा, शिक्षा जैसे कई क्षेत्रों में उन्नति कर रहा है, पर आज भी हमारे देश में आतंकवाद, भ्रष्टाचार, असमानता, बेरोजगारी जैसी अनेकों समस्याएँ हैं जिनके समाधान के लिए हमें एकजुट होकर काम करने की आवश्यकता है

यदि हम “हम बदलेंगे तो देश बदलेगा” की भावना से काम करें तो हमें सफलता अवश्य मिलेगी. तो आइए आज हम सब प्रतिज्ञा करते हैं कि इन समस्याओं को सुलझाने के लिए हम पूरा प्रयास करेंगे और भारत देश को पूरे विश्व का सबसे बेहतरीन देश बनाएंगे

“गूँज रहा है दुनिया में
हिन्दुस्तान का नारा
चमक रहा है आसमान में
तिरंगा हमारा”

धन्यवाद !

जय हिन्द, जय भारत !

Read This :- स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी कविताएं

3) 15 अगस्त पर भाषण – 15 August Speech in Hindi : 2023

15 August Speech in Hindi

तीन रंगों का नहीं वस्त्र,
ये ध्वज देश की शान है,
वीरों का गौरव यही
और हर हिन्दुस्तानी की जान है…!!

माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय शिक्षकगण और मेरे प्यारे देशवासियों आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

आज बहुत ही पावन दिन है. आज ही के दिन सन् 1947 में हमारे देश को अंग्रेजों से आजादी मिली। आज प्रत्येक देशवासी के लिए बहुत ही गर्व और आत्मविश्वास का दिन है

वही आत्मविश्वास जो हमारे वीर शहीदों ने हमारे अंदर भरा है. वही साहस जिसको दिल में जगाकर हमारे वीरों ने हमें आजादी दी है

हम नहीं भूल सकते उन वीरों के बलिदानों को जिसने इस मिट्टी को, अपने लहू से सींच कर भारत को आजाद किया

आज भगत सिंह का दिन है, रानी लक्ष्मीबाई का दिन है, नाना साहेब, चन्द्रशेखर आजाद, बाल गंगाधर तिलक, कुँवर सिंह, नेताजी सुभाष चन्द्र बोस और न जाने कितने ही वीरों का दिन है

वे इस देश को साथियों हमारे हवाले छोड गए. इस देश को जोड़े रखने का और एकजुट रखकर उन्नति के शिखर तक पहुँचने की जिम्मेदारी अब हम सबकी है

आओ आज इस शुभ दिन में सब मिलकर कसम खाएँ, भारत को सर्वोपरि बनाएँ, भारत में बनें, भारत में पलें, भारत के लिए जिएँ और आई घड़ी तो भारत के लिए ही मिट जाएँ

जय हिन्द !
वंदे मातरम !

Read This :- मेरी माटी मेरा देश अभियान पर निबंध

4) 15 अगस्त पर शायरी वाला भाषण – 15 August Shayari Speech in Hindi

“न पूछो जमाने से
कि क्या हमारी कहानी है
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है कि
हम हिन्दुस्तानी हैं”

माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय शिक्षकगण और मेरे प्यारे भाइयों और बहनों, सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार ! सबसे पहले आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई

15 अगस्त भारत देश के गर्व, सौभाग्य व सम्मान का दिवस है. यह हमारा राष्ट्रीय पर्व है. 15 अगस्त 1947 को भारत ब्रिटिश शासन से आजाद हुआ. तब से सभी भारतवासी इस दिन को ‘स्वतंत्रता दिवस’ के रूप में धूमधाम से व हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं

देश को आजाद करने के लिए बहुत से क्रांतिकारी सेनानियों ने बलिदान दिया. जैसे महात्मा गाँधी, पंडित जवाहरलाल नेहरू, मंगल पांडे, लोकमान्य तिलक, सुभाष चन्द्र बोस, भगत सिंह, चन्द्रशेखर आजाद ऐसे सैकड़ों महान स्वतंत्रता सेनानियों ने अपना बलिदान दिया है

आज भी हमारे सैनिक सीमा पर अपनी भारत की सुरक्षा के लिए खड़े हैं. इन वीरों के लिए मैं कुछ लाइनें कहना चाहूँगा….

“नमन है उन वीरों को
जिन्होंने इस देश को बचाया
गुलामी की मजबूत बेड़ियों को
अपने बलिदान के रक्त से पिघलाया
भारत माँ को आजाद कराया”

15 अगस्त के दिन भारत के प्रधानमंत्री लाल किले पर झंडा फहराते हैं. अपने भाषण के द्वारा देश को संबोधित करते हैं. स्कूलों, सरकारी दफ्तरों आदि जगह पर भी यह पर्व धूमधाम से मनाया जाता है

आजादी के बाद भारत ने साइंस, टेक्नोलॉजी, आर्थिक, कृषि, शिक्षा, साहित्य, खेल आदि क्षेत्रों में बहुत तरक्की की है. परन्तु आज भी भारत गरीबी, अशिक्षा, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार आदि समस्याओं से लड़ रहा है

देश के जिम्मेदार नागरिक होने के नाते आज हम सभी संकल्प लेते हैं कि हम इन समस्याओं का समाधान करने का हर संभव प्रयास करेंगे और भारत को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ देश बनाएंगे

जाते-जाते मैं अपने भाषण का समापन एक शायरी से करना चाहूँगा …..

“देशभक्तों से ही देश की शान है
देशभक्तों से ही देश का मान हैं
हम उस देश के फूल हैं यारों
जिस देश का नाम हिन्दुस्तान है”

जय हिन्द, जय भारत !

Read This :- राष्ट्रीय खेल दिवस पर भाषण

5) 15 अगस्त पर हिंदी भाषण – 15 August par Bhashan

“पानी न हो तो नदियाँ किस काम की
आँसू न हो तो आँखें किस काम की
दिल न हो तो धड़कन किस काम की
अगर हम वतन के काम न आए
तो जिन्दगी किस कम की”

माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय शिक्षकगण और मेरे प्यारे देशवासियों, आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज 15 अगस्त है और हम सभी यहाँ अपने देश का 77वाँ स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए उपस्थित हुए हैं. दोस्तों, 15 अगस्त 1947 को हमारा भारत देश ब्रिटिश शासन से आजाद हुआ था. जिसे आजाद कराने के लिए न जाने कितने स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी जान गंवाई थी

आज हमें अपने उन स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देनी चाहिए जिन्होंने कि देश की आजादी के लिए खुद को समर्पित कर दिया. यह दिन हमें महात्मा गाँधीजी, भगत सिंह, सुभाष चन्द्र बोस, पंडित जवाहरलाल नेहरू, मंगल पांडे, चन्द्रशेखर आजाद, मौलाना अबुल कलाम आजाद, सरदार वल्लभभाई पटेल, अशफाकुल्ला खान, लोकमान्य तिलक, लाला लाजपत राय जैसे हजारों महान स्वतंत्रता सेनानियों के त्याग और बलिदान के संघर्षों की याद दिलाता है

स्वतंत्रता दिवस हमें याद दिलाता है कि हमें अपने देश को और उसके मूल्यों को सम्मान देना चाहिए. ये हमें याद दिलाता है कि हम अपनी स्वतंत्रता को निश्चित रूप से इस्तमाल करें

आजादी के बाद, हमारे देश ने बहुत उन्नति की है. हमारा देश भारत आज विज्ञान, तकनीकी, शिक्षा, चिकित्सा, साहित्य, कृषि और खेल समेत विभिन्न क्षेत्रों में तरक्की कर रहा है. परन्तु आज भी हमारे देश में आतंकवाद, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, असमानता जैसी समस्याएँ हैं

तो आइए, आज स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हम सभी प्रतिज्ञा करते हैं कि इन सभी समस्याओं को सुलझाने का हम पूरा प्रयास करेंगे और अपने देश भारत को विश्व में सर्वश्रेष्ठ देश बनाएँगे

जाते-जाते मैं अपने भाषण का समापन एक शायरी से करना चाहूँगा :-

“देशभक्तों से ही देश की शान है
देशभक्तों से ही देश का मान है
हम उस देश के फूल है यारों
जिस देश का नाम हिन्दुस्तान है”

जय हिन्द, जय भारत !

15 August 2023 Speech

6) स्वतंत्रता दिवस पर जानदार भाषण – Swatantrata Diwas par Bhashan

“आओ झुककर सलाम करें उनको
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है
खुशनसीब होते हैं वो लोग
जिनका लहू देश के काम आता है”

माननीय मुख्य अतिथि महोदय, आदरणीय शिक्षकगण और मेरे सभी प्यारे भाइयों एंव बहनों, सर्वप्रथम आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !

दोस्तों, जैसा कि हम सभी को ज्ञात है कि आज 15 अगस्त है और हम सब यहाँ अपने देश के स्वतंत्रता की 77वीं वर्षगाँठ का उत्सव मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं. आज इस सुनहरे अवसर पर मुझे देश भक्ति से ओतप्रोत अपने विचार आपके समक्ष व्यक्त करने का शुभ अवसर प्राप्त कर अत्यंत ख़ुशी की अनुभूति हो रही है

तो दोस्तों आजादी का मतलब वही समझ सकता है जिसने कभी किसी की गुलामी की हो, सोचों हम कितने भाग्यशाली हैं जो स्वतंत्र भारत में हमारा जन्म हुआ और आज हम खुली साँस ले रहे हैं

न जाने कितने घरों के कितनी माँओं के आँचल सूने पड़े होंगे, कितने आँगन की किलकारियाँ खत्म हुई होंगी. यह सोचकर ही रूह काँप उठती है तो ज़रा सोंचिए हमारे उन देशवासियों के बारे में जिन्होंने लगभग 200 वर्षों तक अंग्रेजों की गुलामी और उनके जुर्म को सहा होगा

जिन्होंने जन्म तो अपनी मातृभूमि में लिया पर माँ के आँचल की छाँव नसीब न थी, जिस भोजन को वो अपनी मेहनत से कमाते थे लेकिन वो भी मानो उन्हें भीख में दिया जाता था. अपनी ही मातृभूमि को माँ कहने का हक नहीं था, सोंचो ये सब अत्याचार उन लोगों ने कैसे सहा होगा, पर वो कहावत है ना – ‘पाप का घड़ा जब भर जाता है तो वो फूटता जरूर है”

अंग्रेजों के पाप का घड़ा भी भर चुका था और तब शुरू हुआ हमारे वीर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का महासंग्राम, अपने हाथों में आजादी की मसाल लेकर ऐसा आगे कि फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा. पूरा देश धीरे-धीरे एकजुट होकर अंग्रेजी हुकूमत की जंजीरों को तोड़ते हुए, मातृभूमि को यह कसम देते हुए यह कह उठा कि :-

“जब मैं मरूँ तो इस मिट्टी में मिला देना मेरी राख को,
अपने सीने में दबाए बैठा हूँ देश के लिए कुछ कर गुजरने की आग को,
कमजोर नहीं हैं माँ तेरे यह लाल, अपने लहू से धोएंगे तेरे दामन के हर दाग को”

इस तरह हमारे सभी वीर, वीरांगनाओं ने हमारी मातृभूमि को अपने लहू से सींचा और 15 अगस्त 1947 को इस देश को आजादी दिलवाई. इसमें कोई संदेह नहीं है कि आजादी के बाद से अब तक हमारे देश ने विभिन्न क्षेत्रों में बहुत प्रगति की

परन्तु आज भी आए दिन राजनैतिक हथकण्डे, साम्प्रदायिक दंगे, आतंकवादी हमले, बेरोजगारी जैसी ऐसी अनेकों समस्याएँ हैं जो हमारे देश दीमक की तरह खोखला कर रही हैं

लेकिन आज यहाँ आवश्यकता है हम सब को एकजुट होने की, खासकर हमारी युवा पीढ़ी को जो हमारे देश का उज्जवल भविष्य हैं. इस देश को विकासशील से विकसित भी इन्हें ही बनाना है. तो आइए मिलकर हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों, संघर्षो और कुर्बानी को जिंदा रखते हुए एक जिम्मेदार नागरिक बनें और यह संकल्प लें कि –

“भूल न जाना भारत माँ के सपूतों का बलिदान
इस दिन के लिए जो हुए थे हँसकर कुर्बान
आजादी की खुशियाँ मनाकर लो ये शपथ
कि बनाएंगे भारत देश को और भी महान”

तो दोस्तों अपनी वाणी को विराम देते हुए उपस्थित श्रोतागण को तहे दिल से धन्यवाद देना चाहूँगा कि आप ने अपना बहुमूल्य समय निकाला और इस समारोह में शामिल होकर हम सभी को प्रोत्साहित किया

आपका दिन मंगलमय हो

वन्दे मातरम, जय हिन्द, जय भारत !

Read More :-

Conclusion

उम्मीद है कि आपको 15 अगस्त पर भाषण (15 August Speech in Hindi) अच्छा लगा होगा. अगर आपको भाषण अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिएगा ताकि स्वतंत्रता दिवस पर अच्छे से भाषण कैसे बोला जाता है जान सके. आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please allow ads on our site !

Looks like you're using an ad blocker. We rely on advertising to help fund our site.