Hindi Speech

2 अक्टूबर पर भाषण हिंदी में

2 October Speech in Hindi :- गांधी जयंती भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है जोकि 2 अक्टूबर को बड़ी ही धूमधाम से संपूर्ण देश में मनाया जाता है. इस दिन महात्मा गांधी जी को श्रद्धांजलि दी जाती है

क्या आप 2 अक्टूबर पर हिंदी में भाषण ढूंढ रहे हैं तो आप एकदम सही जगह पर आ चुके हैं. आज मैं आपको बताऊंगा कि आप किस प्रकार 2 अक्टूबर गांधी जयंती पर कड़क भाषण दे सकते हैं. तो आइए जानते हैं

2 अक्टूबर पर भाषण – 2 October Speech in Hindi

2 October Speech in Hindi

माननीय मुख्य अतिथि महोदय, आदरणीय प्रधानाचार्य जी, शिक्षक गण और मेरे प्यारे सहपाठियों को मेरा सादर नमस्कार. आज गाँधी जयंती के पावन अवसर पर मैं कुछ शब्दों और कुछ विचारों को प्रस्तुत करना चाहूँगा / चाहूँगी

प्रतिवर्ष 2 अक्टूबर को पूरे भारत में गाँधी जयंती मनाई जाती है. इस दिन राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी का जन्मदिन पूरे भारतवर्ष में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. उनका जन्मदिन 2 अक्टूबर को “अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस” के रूप में भी मनाया जाता है

महात्मा गाँधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबन्दर नामक स्थान पर हुआ था. उनका पूरा नाम ‘मोहनदास करमचंद गाँधी’ था. उन्हें हम कई नामों से पुकारते हैं. हम उन्हें आदर व सम्मान से “महात्मा गाँधी”, “राष्ट्रपिता” और “बापू” भी कहते हैं

महात्मा गाँधी ने अपनी कानून की पढ़ाई ‘इंग्लैण्ड’ से पूरी की और उसके बाद कुछ वर्ष ‘भारत’ और ‘दक्षिण अफ्रीका’ में वकालत भी की. उन दिनों हमारे भारत देश में अंग्रेजों का शासन था. हमारा भारत देश पूरी तरह से अंग्रेजी शासन के चंगुल में फंसा हुआ था

उस समय उन्होंने देश की आजादी के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया. अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने के लिए उन्होंने “सत्याग्रह आन्दोलन” शुरू किया. उनके नेतृत्व और अथक प्रयासों के कारण ही ’15 अगस्त 1947′ को हमारा देश अंग्रेजों के शासन से आजाद हुआ

गांधी जी एक बहुत ही उच्च विचारों वाले व्यक्ति थे. वे ‘सादा जीवन उच्च विचार’ जैसी विचारधारा रखते थे. साथ ही वे समय के भी बहुत पाबन्द हुआ करते थे. बापू ने हमेशा अहिंसा, सत्य और शांति के मार्ग पर चलकर हमारे सामने देशभक्ति, बलिदान और सादगी का उत्तम उदाहरण प्रस्थापित किया है. उनका जीवन हमेशा हमारे लिए प्रेरणाश्रोत रहा

देश की आजादी के बाद भी उन्होंने हमेशा कमजोर और पीड़ितों के साथ हो रहे अन्याय के खिलाफ आवाज उठाई. उनका मानना था कि यह आजादी तब तक सार्थक नहीं है जब तक कि कमजोर और पीडित को उनके साथ हो रहे अन्याय से मुक्ति न मिलें

30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी जी की हत्या कर दी गयी, पर आज भी वह करोड़ों भारतीयों के हृदय में बसते हैं. हम सभी के लिए यह बड़े गौरव की बात है कि बापू के व्यक्तित्व और सिद्धांतों को याद करने के लिए हमें 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के रूप में यह अक्सर प्राप्त हुआ

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी सच्चे अर्थों में मानवता के पुजारी थे. उनकी विचारधारा और सिद्धांत अद्वितीय हैं. हमारे भारत देश की स्वतन्त्रता के लिए किए गए उनके कार्यों को कभी भुलाया नहीं जा सकता. अतः हम सभी को सदैव ऐसे महापुरुष का हृदय से सम्मान करना चाहिए. इसी के साथ मैं अपनी वाणी को विराम देता हूँ / देती हूँ

जय हिन्द, जय भारत !

धन्यवाद !

Read More :-

संक्षेप में

दोस्तों मुझे उम्मीद है आपको 2 अक्टूबर पर भाषण (2 October Speech in Hindi) की जानकारी मिल गई होगी अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो इसे जरूर शेयर कीजिएगा

नई नई जानकारियों को जानने के लिए MDS Blog के साथ जुड़िए जहां की आपको कई तरह की शिक्षात्मक जानकारियां दी जाती है. MDS Blog पर यह पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker