Hindi Speech

26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में

दोस्तों क्या आप गणतंत्र दिवस पर भाषण (26 January Speech in Hindi) जानना चाहते हैं तो आपने एकदम सही पोस्ट को चुना है. आज मैं आपको बताऊंगा कि 26 जनवरी, भारतीय गणतंत्र दिवस पर कैसे आप भाषण बोल सकते हैं

इस पोस्ट में आपको दो भाषण बताए गए हैं आपको जो अच्छा लगे आप उसे चुन सकते हैं. तो इन भाषणों को बड़े ही जोश के साथ बोलिएगा. चलो फिर जानते है

1) गणतंत्र दिवस पर भाषण – Republic Day Speech in Hindi

26 January Speech in Hindi

“पानी न हो तो नदियाँ किस काम की
आँसू न हो तो आँखें किस काम की
दिले न हो तो धड़कन किस काम की
अगर हम वतन के काम न आए
तो जिंदगी किस काम की”

माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय शिक्षकगण और मेरे प्यारे देशवासियों, आप सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज 26 जनवरी है और हम सभी यहाँ अपने देश का 75 वाँ गणतंत्र दिवस मनाने के लिए उपस्थित हुए हैं. 15 अगस्त 1947 को हमारा भारत देश ब्रिटिश शासन से आजाद हुआ था, हालांकि भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था

तब से हर साल हम गणतंत्र दिवस मनाते हैं. हमारे देश का संविधान विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान है. डॉ० भीमराव अम्बेडकर जी को हमारे संविधान का जनक माना जाता है. हमें हमेशा अपने संविधान का सम्मान करना चाहिए

हमारे देश को स्वतंत्र और गणतंत्र बनाने के लिए अनेक स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने जीवन का बलिदान दिया है. देश उनके समर्पण को कभी नहीं भूल सकता. गणतंत्र दिवस हमें याद दिलाता है कि हमें अपने देश को और उसके मूल्यों को सम्मान देना चाहिए।

आजादी के बाद हमारे देश ने बहुत उन्नति की है. साइंस, टेक्नोलॉजी, कृषि, शिक्षा, आर्थिक, साहित्य, खेल समेत तमाम मोर्चों पर भारत, बहुत तरक्की कर चुका है. परन्तु, आज भी हमारे देश में आतंकवाद, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, असमानता जैसी समस्याएँ हैं

तो आइए, आज गणतंत्र दिवस के अवसर पर हम सभी प्रतिज्ञा करते हैं कि इन सभी समस्याओं को सुलझाने का हम पूरा प्रयास करेंगे और अपने देश भारत को विश्व का सर्वश्रेष्ठ देश बनाएँगे

जाते-जाते मैं अपने भाषण का समापन एक शायरी से करना चाहूँगा….

देशभक्तों से ही देश की शान
देशभक्तों से ही देश का मान
हम उस देश के फूल हैं यारों
जिस देश का नाम हिन्दुस्तान है

जय हिन्द, जय भारत !

धन्यवाद !

Read More –

2) 26 जनवरी पर भाषण – 26 January Speech in Hindi

माननीय अतिथिगण, प्रधानाचार्य जी, शिक्षकगण और मेरे सभी मित्रों….सर्वप्रथम सन 2024 में आप सभी को हमारे प्रिय भारत देश के 75वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

वीर शहीदों का स्वप्न हुआ जो पूरा
आजादी का वो जश्न ना रहे अधूरा,
खातिर इसके हुआ संविधान का निर्माण दिन है
आज वही गणतंत्र का……
हमको इसपे बड़ा है मान……

आज का यह दिन हम सभी भारतीयों के लिए बहुत ही खास दिन है क्योंकि इसी दिन भारत को एक गणतांत्रिक देश के रूप में घोषित किया गया था. बड़े ही संघर्ष और मेहनत के बाद आखिरकार सन 1950 के जनवरी महीने की 26 तारीख को संविधान लागू हुआ

जी हां… मैं बात कर रहा हूँ… यशस्वी भारत के उस गौरवशाली संविधान की जिसकी नीव डॉ. भीमराव अम्बेडकर जी द्वारा रखी गयी थी. आज यही संविधान भारत की आत्मा है, या यूँ कहें कि भारतीयों के लिए 1950 में तैयार किये गए नियमों, कर्तव्यों और अधिकारों की व्याख्या है

इसका पालन देश के प्रथम व्यक्ति अर्थात राष्ट्रपति द्वारा भी किया जाता है. इस संविधान का सम्मान करना और इसे सर्वोपरि रखना हम सभी देशवासियों का मौलिक कर्त्तव्य है

15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता सेनानियों के बड़े संघर्ष के बाद हमें अंग्रेजों से आजादी मिली और ढाई साल बाद 26 जनवरी 1950 को हमारा देश गणतंत्र बना, अर्थात भारत में वंशानुगत शासन नहीं हो सकता

गणतंत्र एक ऐसा राज्य होता है जहां के शासनतंत्र में सैद्धान्तिक रूप से देश के सर्वोच्च पद पर आम जनता का कोई भी व्यक्ति हो सकता है

हमारे संविधान ने हमें अपने प्रतिनिधियों को राजनीतिक नेता के रूप में चुनने का अधिकार दिया है. हमारा संविधान, जिसमें सभी नागरिकों के मूल कर्तव्यों, नियम और कानून का उल्लेख है, हमें उन सभी का पालन करना चाहिए

हमें देश के प्रति कर्तव्यनिष्ठ होना चाहिए साथ ही शहीद भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद और नेता जी जैसे वीर शहीदों का पूरे दिल से सम्मान करना चाहिए आखिर आज उन्हीं के बलिदान के कारण हम बिना किसी संघर्ष के देश को प्रगतिपथ पर आगे बढ़ा पा रहे है

हमें ऐसे महान अवसरों पर वीर शहीदों को अवश्य याद करना चाहिए. आज देश की राजधानी में भारत की विविधता में एकता को दर्शाते हुए विभिन्न राज्यों की संस्कृति और परंपरा का एक बड़ा प्रदर्शन किया जाता है

हमें इससे मिलझुल कर रहने की प्रेरणा मिलती है. प्रगतिपथ पर तीनों सेनाओं के जौहर हमें एहसास दिलाते हैं कि हम सुरक्षित हैं. इंडिया गेट पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा वीरों को दिए जाने वाले पुरस्कार देशवासियों के हौंसलों को ओर भी बुलन्द करते हैं

लालकिले पर लहराता तिरंगा देश की आन, बान, शान और हमारे स्वाभिमान को बढ़ाता है. ऐसे राष्ट्रीय जश्न के मौकों पर एक भारतीय होने पर मेरा गर्व स्वतः ही बढ़ जाता है. आज के इस पावन दिन पर मैं यह कामना करता हूँ कि हमारे देश से धर्म व जातिगत भेदभाव और भ्रष्टाचार पूरी तरह खत्म हो जाए. अंत में बस चंद पंक्तियां कहना चाहूंगा

“चढ़े हंसकर मौत के ज़ीने पर, खाई गोली सीने पर,
अडिग थी आजादी की चाहत, खूनी घूंट भी पीने पर”

संक्षेप में

उम्मीद है कि आपको 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर भाषण (26 January Speech in Hindi) अच्छा लगा होगा. अगर आपको भाषण अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिएगा ताकि गणतंत्र दिवस पर अच्छे से भाषण कैसे बोला जाता है जान सके. आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please allow ads on our site !

Looks like you're using an ad blocker. We rely on advertising to help fund our site.