Educational

अर्थशास्त्र क्या है और इसके प्रकार

नमस्कार दोस्तों आपका My Digital Support में स्वागत है. जहां पर आपको की नई-नई जानकारियां मिलती रहती है. आज की इस पोस्ट में हम अर्थशास्त्र क्या है – Economics in Hindi की जानकारी जानेंगे

आज की इस पोस्ट में हम अर्थशास्त्र के बारे में तो जानेंगे ही और साथ में अर्थशास्त्र के प्रकार के बारे में भी जानेंगे. Post को आप पूरा पढ़ सकते हैं और सामाजिक दुनिया दारी को समझ सकते हैं.

अर्थशास्त्र क्या है – Economics in Hindi

अर्थशास्त्र क्या है इसके प्रकार

अर्थशास्त्र या इकोनॉमिक्स सामाजिक विज्ञान की एक शाखा है. जिसके अन्तर्गत हम लोग वस्तुओं के उत्पादन, वितरण, विनिमय और उपभोग का अध्ययन करते है. अर्थात अर्थशास्त्र का शाब्दिक अर्थ धन का शास्त्र यानी की धन के अध्ययन के शास्त्र को अर्थशास्त्र कहते हैं. अर्थशास्त्र के सिद्धांतों को दो भागों में विभाजित किया गया है.

  • व्यष्टि अर्थशास्त्र (कीमत सिद्धांत)
  • समष्टि अर्थशास्त्र (आय सिद्धांत)

अर्थशास्त्र के पिता

एडम स्मिथ को अर्थशास्त्र का पिता कहा जाता है. उन्होंने एक पुस्तक लिखी थी wealth of nations जिसमे दुनिया के सभी देशो के सम्पत्ति के बारे में बात की गयी है. एडम स्मिथ Scot land के रहने वाले थे.

अर्थशास्त्र के प्रकार – Types of Economics in Hindi

तो जैसा कि हमने आपको पहले ही बता दिया है. कि अर्थशास्त्र को दो भागों में बांटा गया है. जिनका नीचे विस्तार किया गया है. आप उन्हें पढ़ सकते हैं और अर्थशास्त्र के बारे में जान सकते हैं.

  • व्यष्टि अर्थशास्त्र (Micro Economics)
  • समष्टि अर्थशास्त्र (Macro Economics)

व्यष्टि अर्थशास्त्र – Micro Economics in Hindi

व्यष्टि अर्थशास्त्र का पिता Ragnar Frisch को कहा जाता है. Micro Economics के अन्तर्गत हम बहुत छोटे स्तर पर बात करते हैं. इसे इस तरह याद रखयेगा मोबाइल में micro sd card होता है. मतलब वो पहले से भी छोटा कर दिया गया है. अर्थात व्यष्टि मतलब छोटा है. व्यष्टि अर्थशास्त्र के कुछ उदहारण है-

  • प्रति व्यक्ति आय (per capitaincome)
  • मांग एवम् आपूर्ति (demand and supply)
  • राजस्व (revenue)
  • उपयोगिता (utility)
  • कीमत सिद्धान्त (price theory)
  • मांग सिद्धान्त (demand theory)

समष्टि अर्थशास्त्र – Macro Economics in Hindi

समष्टि अर्थशास्त्र का पिता John keynes को कहा जाता है इसके अन्तर्गत हम बहुत बड़े स्तर पर बात करते हैं. यह व्यष्टि का विपरीत है. Macro Economics अर्थशास्त्र की वह शाखा है. जो कुल पदों के व्यवहार और प्रदर्शन पर ध्यान को केंद्रित करती है और कुल पदों के व्यवहार और प्रदर्शन को पूरे अर्थव्यवस्था में प्रभावित करती हैं. समष्टि अर्थशास्त्र के कुछ उदहारण-

  • राष्ट्रीय आय (National income)
  • योजना (planning)
  • कर (tax)
  • बजट (budget)
  • बैंकिंग (banking)

अगर हम केवल एक व्यक्ति की आय के बारे में आकलन रहे हैं. तो हम बहुत छोटे स्तर पर बात कर रहे हैं. अतः यह Micro Economic का part होगा. लेकिन जब पुरे देश की आय अर्थात राष्ट्रीय आय का आकलन कर रहे हैं तो व्यापक स्तर हो गया. अतः यह Macro Economic का भाग होगा

Read More – जीडीपी क्या है इसकी परिभाषा और मापने का तरीका

अर्थव्यवस्था क्या है – What is Economy in Hindi

अर्थव्यवस्था (Economy) वह सरंचना है. जिसके अंतर्गत सभी आर्थिक गतिविधियां का संचालन होता है. उत्पादन उपभोग व निवेश अर्थव्यवस्था की आधारभतू गतिविधिया है. अर्थव्यवस्था की संस्थाएं मनुष्यकृत होती है. अत: इनका विकास भी मनुष्य जैसा चाहता है वैसा ही करता है.

अर्थव्यवस्था के प्रकार – Type of Economy in Hindi

अर्थव्यवस्था के प्रकार

जानकारी

खुली अर्थव्यवस्था

यह नियंत्रण मुक्त अर्थव्यवस्था है जो स्वतंत्रता प्रतियोगिता को प्रोत्साहित करता है. वैश्वीकरण के नीति में सभी देश मुक्त अर्थव्यवस्था को अपना रहे हैं.

बंद अर्थव्यवस्था

यह एक ऐसी अर्थव्यवस्था है जो विश्व के साथ किसी प्रकार की विदेशी व्यापार की क्रिया को संपन्न नहीं करता है. इस प्रकार की आर्थिक क्रियाएं एक देश की सीमा के अंदर होती है.

विकसित अर्थव्यवस्था

इस प्रकार की अर्थव्यवस्था आर्थिक गतिविधियों एवं विकास के एक बेहतर स्तर का प्रतिनिधित्व करती है. इस प्रकार की अर्थव्यवस्था में किसी सीमा या मापदंड का निर्धारण करना कठिन है.

इस प्रकार की अर्थव्यवस्था के देशों में USA और जापान जैसे देश आते हैं, जिनकी नागरिकों की प्रति व्यक्ति आय उच्च और बेहतर जीवन के आधार पर विकसित देश कहा जाता है.

विकासशील अर्थव्यवस्था

इस प्रकार की अर्थव्यवस्था में ऐसे देश आते हैं जो अपनी पिछड़ी व्यवस्था से उच्च विकास की ओर प्रयासरत है. जैसे भारत

पूंजीवादी अर्थव्यवस्था

इस प्रकार की अर्थव्यवस्था बाजार की शक्तियों अर्थात मांग और आपूर्ति के सिद्धांतों के अंतर्गत स्वतंत्र रुप से कार्य करती है इसे बाजार अर्थव्यवस्था के नाम से जाना जाता है.

समाजवादी अर्थव्यवस्था

इस प्रकार की अर्थव्यवस्था कार्लमार्क्स के सिद्धांतों पर आधारित व्यवस्था का प्रतिपादन करता है. इसके अंतर्गत उत्पादन के समस्त साधनों पर राज्य और समुदाय का नियंत्रण रहता है. जैसे सोवियत रूस

मिश्रित अर्थव्यवस्था

इस प्रकार की अर्थव्यवस्था में समाजवादी और पूंजीवादी अर्थव्यवस्था का मिश्रण होता है.

आर्थिक संसाधनों के महत्वपूर्ण भाग पर राज्य का नियंत्रण होता है और उसी के साथ निजी क्षेत्र को विकास का अवसर प्राप्त होता रहता है जैसे भारत

अर्थव्यवस्था के क्षेत्र – Sectors of Economy in Hindi

केंद्रीय सांख्यिकी संगठन द्वारा अपनी राष्ट्रीय आय की पहली श्रृंखला में भारतीय अर्थव्यवस्था को 13 क्षेत्रों में विभाजित किया गया था. परंतु केंद्रीय सांख्यिकी संगठन ने अपने द्वितीय श्रृंखला जो 1966-67 में जारी की गई थी. उसमें भारतीय अर्थव्यवस्था को तीन क्षेत्रों में प्राथमिक, द्वितीयक और तृतीयक क्षेत्रों में विभाजित कर दिया.

अर्थव्यवस्था के क्षेत्रक

अर्थव्यवस्था

प्राथमिक क्षेत्रक

इस क्षेत्र में कृषि, वन क्षेत्र, मत्स्य क्षेत्र और खाने आदि प्राकृतिक संसाधन शामिल हैं. इनसे द्वितीयक क्षेत्र के लिए कच्चा माल मिलता है.

द्वितीयक क्षेत्र

इस क्षेत्र में प्राकृतिक उत्पादों के विनिर्माण प्रणाली के जरिए अन्य रूपों में परिवर्तित किया जाता है. जैसे गन्ने से चीनी बनाना और गुड़ का निर्माण करना. इसे औद्योगिक क्षेत्र भी कहा जाता है.

तृतीयक क्षेत्र

इस क्षेत्र में परिवहन, शिक्षा, होटल, भण्डारण, और संचार और सामुदायिक एवं व्यक्तिगत सेवाएं शामिल होती हैं. इसे सेवा क्षेत्रक भी कहते हैं

Conclusion

हमें उम्मीद है कि आपको अर्थशास्त्र क्या है – What is Economics in Hindi और अर्थशास्त्र के प्रकार और अर्थव्यवस्था क्या है के बारे में जानकारी मिल गई होगी. हमारी हमेशा यही कोशिश रहती है. आप इस Blog से कुछ ना कुछ सीख जाए.

अगर आपका इस Post के बारे में कोई भी सुझाव है. तो हमें कमेंट बॉक्स में बताएं या फिर अगर हमारे द्वारा इस Post में कोई जानकारी अधूरी रह गई है. तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं.

अगर आपका कोई सवाल है. तो बेझिझक कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं. हम आपका उत्तर देने की कोशिश जरूर करेंगे. अगर आपको यह Post पसंद आई है. तो इसे सोशल मीडिया – Facebook, Twitter, WhatsApp पर Share जरूर कीजिए धन्यवाद!

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please allow ads on our site !

Looks like you're using an ad blocker. We rely on advertising to help fund our site.