Internet

डार्क वेब क्या है और कैसे काम करता है

Dark Web kya hai : दोस्त आप सभी इंटरनेट का इस्तेमाल हर दिन करते हैं लेकिन क्या आपको पता है डार्क वेब या डार्क नेट क्या है? अगर नहीं पता तो आज हम इस आर्टिकल में डार्क वेब की जानकारी हिंदी में जानेंगे

आजकल की दुनिया डिजिटल होती जा रही है और लगभग हर इंफॉर्मेशन के लिए हम इंटरनेट का उपयोग करते हैं. आपको बता दें हम लोग इंटरनेट का लगभग 4% भाग ही यूज करते हैं यानी कि इंटरनेट यूजर 4% वेब को ही यूज करते हैं

Google, Yahoo, Bing या कोई भी अन्य सर्च इंजन केवल 4% ही इंटरनेट को कवर करता है. वही बाकी 96% वेब के बारे में आम इंसान को शायद ही पता हो, इसी 96% वेब भाग को डार्क वेब या डार्क नेट कहा जाता है

इसके अंतर्गत हैकिंग, ऑनलाइन ड्रग्स की लेन देन और कई अन्य प्रकार की Illegal चीजें शामिल है. डार्क वेब में कई सारे बड़े-बड़े देश शामिल है जिसमें से एक भारत भी है. यदि आपको डार्क वेब क्या होता है और डार्क वेब कैसे काम करता है इसके बारे में जानना है तो आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना होगा. गजब का नॉलेज आपको इस पोस्ट में दिया गया है आइए जानते हैं

डार्क वेब क्या है – What is Dark Web in Hindi

डार्क वेब क्या है और कैसे काम करता है, Dark Web in Hindi, Dark web kya hai

डार्क वेब या डार्क नेट इंटरनेट का एक हिस्सा होता है जिसे कि किसी भी सर्च इंजन जैसे कि Google, Yahoo, Bing आदि में Index नहीं किया जाता यानी डार्क वेब इंटरनेट का एक ऐसा हिस्सा है जोकि Deep Web में होता है जिसमें कि सभी गैर कानूनी काम किए जाते हैं. शोधकर्ताओं के अनुसार इंटरनेट का केवल 4% ही सर्च इंजन में Visible होता है जिसे Surface web कहा जाता है

इसका मतलब यह हुआ कि बाकी बचा हुआ 96% भाग इंटरनेट का डार्क वेब या डार्क नेट कहलाता है. आपकी जानकारी के लिए बता दें डार्क वेब में ऐसी-ऐसी वेबसाइट होती है जिसे की आम Publication को Visible नहीं कराया जाता क्योंकि उनके Ip-address की Details जान बूझकर Hide कर दी जाती है

ऐसी वेबसाइटों को कुछ खास ब्राउज़र द्वारा ही एक्सेस किया जा सकता है जैसे TOR ब्राउज़र आदि, डार्क वेब Black market और Illegal User protection के लिए बहुत ही पॉपुलर है इसलिए इसे हम Positive और Negative marketing मान सकते हैं

डार्कनेट मार्केट क्या है

यह ऐसी इंडस्ट्रीज होती है जो कि डार्क वेब में ऑपरेट होती है. इन इंडस्ट्रीज को ही डार्कनेट मार्केट कहा जाता है. इन सभी इंडस्ट्रीज में Porn, Child Trafficking, defence secrets, Government Secrets आदि होते हैं. डार्क वेब की मदद से आप क्रेडिट कार्ड नंबर को खरीद सकते हैं. डार्क वेब में चोरी के पैसे, चुराई गई डीटेल्स और हैकर अकाउंट और कंप्यूटर सिस्टम को हैक करने वाले सॉफ्टवेयर की लेनदेन एक सिक्योर माध्यम से होती है.

डार्क वेब कैसे काम करता है

डार्क वेब के काम करने का तरीका बहुत अलग है यानी कि किसी यूजर Friendly website के मुकाबले आप डार्क नेट वेबसाइट को एक्सेस नहीं कर सकते. इसे Normal ब्राउज़र जैसे गूगल क्रोम, सफारी इत्यादि से एक्सेस नहीं किया जा सकता है

ऐसी वेबसाइट को एक्सेस करने के लिए आपको TOR जैसे ब्राउज़र का उपयोग करना होगा. केवल ऐसे ब्राउज़र के माध्यम से ही आप डार्क वेब में किसी वेबसाइट को एक्सेस कर सकते हैं. वही डार्क वेब में available वेबसाइट के Domain Name काफी अलग तरह के होते हैं जैसे कि .Onion जो कि सिर्फ डार्क वेब में इस्तेमाल किए जाते हैं

डार्क वेब को एक्सेस करना इतना भी आसान नहीं होता है. आप Log in कर डार्क वेब को एक्सेस कर सकते हैं वही आपको इसमें enter करने के लिए कुछ नियमों का पालन करना होता है. चलिए इसी विषय पर चर्चा करते हैं

#1- डार्क वेब को एक्सेस करने के लिए आपको Private Secure VPN की जरूरत पड़ती है. जो कि आप की Identity को दूसरों से Secure करता रहे. क्योंकि डार्कनेट में available साइट Safe नहीं होती इसमें बहुत सारे हैं Hacker होते हैं. इसीलिए डार्क वेब में अपने डाटा को Secure करने के लिए आपको Secure VPN Service का इस्तेमाल करना होगा.

#2- डार्क वेब में एक्सेस होने के लिए आपको तो TOR वेब ब्राउज़र को डाउनलोड करना होगा. जिससे कि आप उसमें Log in हो सके. और आपको बता दें TOR वेब ब्राउज़र को हमेशा ऑफिशियल वेबसाइट से डाउनलोड करें क्योंकि इंटरनेट पर आपको बहुत सारे Duplicates TOR वेब ब्राउजर मिल सकते हैं.

#3- अगर आप डार्क वेब में Enter हो जाते हैं. तो आपको सभी ऐप्स और प्रोग्राम को बंद करना होगा. जिससे कि आप आसानी से इसमें Crawl कर सकते हैं. डार्क वेब में उपस्थित वेबसाइट को सर्च करने के लिए आप GRAM Search Engine का इस्तेमाल कर सकते हैं. ठीक वैसे ही जैसे कि गूगल सर्च करने के लिए आप गूगल क्रोम का इस्तेमाल करते हैं.

डार्क वेब यानी कि एक ऐसा वेब जिसमे illegal काम होते हैं. वैसे अब हमें फिर से इसके बारे में बताने की जरूरत नहीं है. लेकिन आपको बता दे डार्क वेब को ब्राउजर में एक्सेस करना खतरनाक हो सकता है. क्योंकि इसमें बहुत सारे वायरस और हैकर्स होते हैं जो कि आपके सिस्टम को हैक कर सकते हैं और आपकी जानकारियां चुरा सकते हैं. डार्क वेब को एक्सेस करने के लिए आपको ऊपर दिए गए कुछ चीजों को फॉलो करना होगा

संक्षेप में

मुझे उम्मीद है कि आपको यह जानकारी डार्क वेब क्या है – What is Dark web in Hindi जरूर पसंद आई होगी

डार्क नेट क्या होता है और डार्कनेट कैसे काम करता है? आज की यह जानकारी अगर आपको यह जानकारी कुछ काम की लगी तो आप इसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर कीजिएगा. ताकि और लोग भी इंटरनेट में हो रहे अन्य गतिविधियों के बारे में जान सके

धन्यवाद!

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please allow ads on our site !

Looks like you're using an ad blocker. We rely on advertising to help fund our site.