Hindi Essay

सरोजिनी नायडू पर निबंध हिंदी में

दोस्त क्या आप भी सरोजिनी नायडू पर निबंध (Essay on Sarojini Naidu in Hindi) की तलाश कर रहे थे तो अब आप एक सही जगह पर आ गए हैं

तो आज मैं आपका दोस्त हाजिर हूं और आपको सिखाऊंगा की भारत की कोकिला सरोजिनी नायडू पर किस प्रकार से निबंध आप लिख सकते हो. तो आइए सबसे पहले कुछ जरूरी पॉइंट पढ़ते हैं

नामसरोजिनी नायडू
प्रसिद्ध नामभारत की कोकिला
जन्म तिथि13 फरवरी 1879
जन्म हुआहैदराबाद, आंध्र प्रदेश
माता का नामबरदा सुंदरी देवी
पिता का नामअघोरनाथ चट्टोपाध्याय
मृत्यु2 मार्च 1949 को

सरोजिनी नायडू पर निबंध – Essay on Sarojini Naidu in Hindi

सरोजिनी नायडू पर निबंध

“हिंदुस्तान की बुलन्द आवाज थी वो
भारत कोकिला.. देश के सर का ताज थी वो”

प्रस्तावना

भारत की बुलबुल कहीं जाने वाली श्रीमति सरोजिनी नायडू एक महान स्वतंत्रता सेनानी, एक कुशल राजनेता और अद्भुत लेखिका थी

वे विलक्षण प्रतिभाओं की धनी थी. वह देश की प्रथम महिला राज्यपाल और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष भी थी

वह गांधी जी की विचार धाराओं से अत्यंत प्रभावित थी और उन्होंने उनके साथ अनेक आंदोलनों में भाग लिया जिस कारण उन्हें कई बार जेल भी जाना पड़ा

जन्म एवं शिक्षा

सरोजिनी नायडू का जन्म 13 फरवरी 1879 को आंध्र प्रदेश के हैदराबाद में एक बंगाली परिवार में हुआ था

इनके पिता अघोरनाथ चट्टोपाध्याय वैज्ञानिक और डॉक्टर थे इसके साथ ही वे इंडियन नेशनल कांग्रेस हैदराबाद के सदस्य भी बने

बाद में नौकरी छोड़कर और आजादी के संग्राम में कूद पड़े. सरोजिनी नायडु की माँ बरदा सुंदरी देवी भी एक लेखिका थी और बंगाली में कविता लिखा करती थी

सरोजिनी नायडू को उर्दु, तेलुगु, अंग्रेजी, बंगाली, भाषाएं अच्छे से आती थी. पढ़ाई में होशियार होने के कारण महज 12 वर्ष की उम्र में सरोजिनी जी ने मद्रास यूनिवर्सिटी में मैट्रिक की परीक्षा में टॉप किया था

फिर 4 साल पढ़ाई से दूर रहने के बाद हैदराबाद के निजाम द्वारा प्रदान शिक्षावृत्ति द्वारा इंग्लैंड में पढ़ाई करने का अवसर प्राप्त हुआ

सरोजिनी नायडू को पहले लंदन के किंग्स कॉलेज और बाद में कैम्ब्रिज के गिरटन कॉलेज में अध्ययन करने का मौका मिला

सरोजिनी नायडु का विवाह

कॉलेज की पढ़ाई के दौरान सरोजिनी जी की पहचान डॉ. गोविंद राजुलु नायडू से हो गई थी. महज 19 साल की उम्र में पढाई समाप्त होने के बाद सरोजिनी नायडु ने अपनी पसंद से 1897 में इंटर कास्ट मैरेज कर ली थी

राजनीतिक क्षेत्र में उनका योगदान

साल 1916 में सरोजिनी नायडू महात्मा गाँधी से मिली उनसे मिलने के बाद से ही सरोजिनी नायडू की सोच में क्रांतिकारी बदलाव आया

सरोजिनी ने गांव और शहर की औरतों में देशभक्ति जगाकर आजादी की लड़ाई में हिस्सा लेने के लिये प्रोत्साहित किया

साल 1925 में सरोजिनी नायडु कानपुर से इंडियन नेशनल कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष बनी थी. इन्होंने सविनय अवज्ञा आन्दोलन और भारत छोड़ो जैसे क्रांतिकारी आंदोलनों में अहम भूमिका निभाई

साल 1842 में गाँधीजी के भारत छोड़ो आंदोलन में सरोजिनी भी गाँधीजी के साथ 21 महीनों के लिये जेल गई थी

साहित्यिक क्षेत्र में उनका योगदान

सरोजिनी नायडू एक महान कवियित्री थी. सरोजिनी जी ने साहित्य के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया

सरोजिनी जी को बचपन से ही कविता लिखने का शौक था. इसके साथ ही वह एक कुशल गायिका भी थी इनके पहले कविता संग्रह ‘द थ्रेशहोल्ड’, जो 1905 में प्रकाशित की गई थी, को लोगो ने काफी सराहा और इनके द्वारा लिखे गए प्रत्येक काव्य को पसंद किया

जिनमें ‘द बर्ड ऑफ टाइम’ (1912 ), द फायर ऑफ लंदन’ (1912) और ‘द ब्रोकेन विंग’ (1917) काव्य रचना काफी लोकप्रिय हुए थे

इनकी कविताओं में भारतीय संस्कृति की अद्भुत झलक देखने को मिलती है इसी कारण सरोजिनी नायडू को “भारत कोकिला” की उपाधि से नवाजा गया

इनकी कविताओं में भारत की प्राकृतिक सुंदरता के अलावा, सामाजिक मुद्दों को बेहतर खूबसूरती से काव्य रचना में प्रस्तुत किया है

2 मार्च 1949 को दिल का दौरा आने से भारत की कोकिला सरोजिनी नायडू की मृत्यु लखनऊ में अपने कार्यालय में हुई उस समय इनकी आयु 70 वर्ष थी

उपसंहार

सरोजिनी नायडू ने आजादी की लड़ाई के दौरान अपने कविताओं और भाषण के जरिए लोगों को जागृत करने का सार्थक प्रयास किया

सरोजिनी नायडू का नाम आज इतिहास के पन्नों में दर्ज है. इनके जन्मदिन को राष्ट्रीय महिला दिवस के तौर पर बड़े ही उत्साह और खुशी के साथ मनाया जाता है. वह एक सच्ची देशभक्त और क्रांतिकारी वीरांगना थी

“कोकिला समान स्वर वाली
अमर रहे वीरांगना हमारी”

FAQ’s – अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

भारत की कोकिला किसे कहा जाता है ?

सरोजिनी नायडू को भारत कोकिला के नाम से जाना जाता है

सरोजिनी नायडू का जन्म कब और कहां हुआ था ?

सरोजिनी नायडू का जन्म 13 फरवरी 1879 को आंध्र प्रदेश के हैदराबाद में हुआ था

सरोजिनी नायडू के माता-पिता का नाम क्या था ?

सरोजिनी नायडू की माता का नाम बरदा सुंदरी देवी और पिता का नाम अघोरनाथ चट्टोपाध्याय था

Read More :-

संक्षेप में

मुझे उम्मीद है कि आपको सरोजिनी नायडू पर निबंध (Essay on Sarojini Naidu in Hindi) जरूर पसंद आया होगा. अगर आपको यह जानकारी कुछ काम की लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिएगा

अगर आप इसी तरह की जानकारियों को जानने के इच्छुक है तो MDS BLOG के साथ जरूर जुड़िए. दोस्त यह पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please allow ads on our site !

Looks like you're using an ad blocker. We rely on advertising to help fund our site.