Educational

15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस पर कविताएं

क्या आप स्वतंत्रता दिवस पर कविता (Independence Day Poem in Hindi) में तलाश कर रहे हैं तो आप एकदम सही जगह पर आ गए हैं

इस पोस्ट में मैंने आपको 15 August Poem in Hindi में बताई है. जोकि स्वतंत्रता दिवस पर देशभक्ति कविता के रूप में भी बोली जा सकती है. तो आइए जानते हैं

स्वतंत्रता दिवस पर कविता – Independence Day Poem in Hindi

Independence Day Poem in Hindi


भारत की जान है तिरंगा
भारत का सम्मान है तिरंगा

तीन रंगों से बना तिरंगा
भारत में लहराए तिरंगा

हर शहीदों का कफन है तिरंगा
हर देशवासियों की जान है तिरंगा

भारत में लहराए तिरंगा
भारत में लहराए तिरंगा




आजादी का नया रंग
फिर आँखों पर छाया है

15 अगस्त का दिन है आया
लाल किले पर तिरंगा लहराया

चलो मनाये जश्न मिलकर
फिर एक बार खाये कसम

नया सवेरा फिर लायेंगे
पूरे भारत में तिरंगा लहराएंगे




तुझको नमन मेरे वतन
फूल हम तू है चमन
तेरी रक्षा को करें गमन
तुझसे ही है यह तन मन

आँख जो कोई उठाए
आग दरिया में लगाए
दुश्मन को दौड़कर भगाए
तिरंगा को हमेशा
चारो दिशाओं में फैलाएं

तेरी खातिर मर भी जाएं
जान पर अपनी खेल जाएं
तुझको नमन मेरे वतन
फूल हम तू है चमत




भारत देश हमारा है
हमको जान से प्यारा है

दुनिया में सबसे न्यारा है
सबकी आँखों का तारा है

इसकी मिट्टी की खुशबू
लगती जहाँ से प्यारी है

कहते इसे हम मातृभूमि
ये प्यारी धरती हमारी है

अलग-अलग धर्मों में भी तो
यहाँ एकता समाई है

ये भारत देश हमारा है
हमको जान से प्यारा है




भारत की जान है तिरंगा
भारत का सम्मान है तिरंगा
तीन रंगो से बना प्यारा तिरंगा
पूरे जहाँ में लहराए तिरंगा

हर शहीदों का कफन है तिरंगा
सबके मन मे लहराए तिरंगा
हर देशवासियों की जान है तिरंगा
पूरे भारत में लहराए तिरंगा




प्यारा प्यारा मेरा देश
सबसे न्यारा मेरा देश

दुनिया जिस पर गर्व करे
ऐसा सितारा मेरा देश

चांदी सोना मेरा देश
सफल सलोना मेरा देश

गंगा जमुना की माला का
फूलों वाला मेरा देश

आगे जाए मेरा देश
नित नए मुस्काएं मेरा देश

इतिहासों में बढ़-चढ़कर
नाम लिखायें मेरा देश




न जाने कितने शहीदों ने
अपनी कुर्बानी चढ़ाई थी
तब जाकर मेरे देश ने
सच्ची आजादी पाई थी

अमर शहीदों ने मिलकर
इक ऐसा सपन संजोया था
खुशहाल रहे ये देश मेरा
ये सोच कर सब कुछ खोया था

पर ये क्या देखो चारो ओर
फैली ये कैसी लड़ाई है ?
क्या इसके लिए उन वीरों ने
अपनी जान गंवाई है

इक दौर था वो जब लोग यहाँ
इस देश पर मर मिटते थे
इक दौर है ये जब लोग यहाँ
अपनों के ही दुश्मन बन बैठे हैं

आओ मिलकर इक बार पुन:
इक नया जहान बनाते हैं
जो सपना शहीदों ने देखा था
उसको साकार बनाते हैं

आजादी के लिए जिन्होंने
लड़ी कठिन लड़ाई थी
आओ धन्यवाद करें हम उनका
जिन्होंने हमें आजादी दिलाई थी

न जाने कितने शहीदों ने
अपनी कुर्बानी चढ़ाई थी
तब जाकर मेरे देश ने
सच्ची आजादी पाई थी




हम नन्हे-मुन्ने बच्चे है
अकल से थोड़े कच्चे है

दिल के हम सच्चे है
वादों के हम पक्के है

हम भी सरहद जायेंगे
सीने पे गोली खायेंगे

मर जायेंगे – मिट जायेंगे
देश की शान बढ़ायेंगे

हम नन्हे-मुन्ने बच्चे है
अकल से थोड़े कच्चे है



Read More :-

स्वतंत्रता दिवस पर कविता – Independence Day Poem in Hindi का यह कलेक्शन आपके लिए कितना उपयोगी था कमेंट बॉक्स में हमें जरूर बताएं

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please allow ads on our site !

Looks like you're using an ad blocker. We rely on advertising to help fund our site.