Informative

न्यूट्रिशन क्या है इसका महत्व

Nutrition kya hai : दोस्तों नमस्कार क्या आप भी जानना चाहते हैं कि आखिर न्यूट्रिशन क्या है और न्यूट्रिशन साइंस का महत्व क्या है? तो आज की पोस्ट आप जैसे स्वास्थ्य संबंधी इच्छुक लोगों के लिए ही तैयार की गई है

जिसमें कि आपको Nutrition meaning in Hindi के बारे में जानकारी दी गई है. तो आइए बिना समय गवाएं जानते हैं

न्यूट्रिशन क्या है – What is Nutrition in Hindi

न्यूट्रिशन क्या है - What is Nutrition in Hindi, Nutritious meaning in Hindi, Importance of nutritionन्यूट्रिशन एक प्रक्रिया है जिसमें भोजन के पाचन के बाद उसमें उपलब्ध विभिन्न पोषक तत्वों का विभिन्न एंजाइमों की प्रक्रिया से छोटे-छोटे कणों में विघटन व पाचन होता है

पोषक तत्वों का यह लघु अणु छोटी आत में अवशोषित हो जाते हैं तथा फिर इन्हें शरीर के विभिन्न भागों में ले जाया जाता है. जहां इनका कोशिकाओं में मेटाबॉलिज्म द्वारा आवश्यक विशिष्ट पोषक तत्वों के निर्माण या उनके और ज्यादा विघटन द्वारा ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए उपयोग किया जाता है. आहार के पाचन और अवशोषण के बाद बच गए अपशिष्ट को शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है

न्यूट्रिशन साइंस वह विज्ञान है जो जीवों के शारीरिक विकास, रखरखाव, प्रजनन, स्वास्थ्य और बीमारियों के संदर्भ में आहार में उपलब्ध पोषक और अन्य तत्वों की पारस्परिक प्रक्रियाओं की व्याख्या करता है

इसमें भोजन का सेवन, पाचन, अवशोषण, शरीर द्वारा पोषक तत्व को आत्मसात करना, शरीर में नए यौगिकों का निर्माण व उर्जा भी शामिल है

Nutrition meaning in Hindi

Nutrition = पोषण

अब चलिए आपको पाचन और अवशोषण के बारे में बताता हूं

पाचन क्या है – What is Digestion in Hindi

पाचन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें भोजन से प्राप्त पोषक तत्व छोटी इकाईयों में विघटित होते हैं. हम जो खाना खाते हैं उसमें पोषक तत्व बड़े व जटिल स्वरूप में मौजूद होते हैं जिनका उपयोग हमारा शरीर नहीं कर सकता

इसलिए बड़े अणुओं को छोटे-छोटे कणों में विभाजित करना ज़रूरी होता है ताकि वे उपयोग के लिए शरीर में अवशोषित हो सकें. पाचन और अवशोषण के बाद जो शरीर के लिए अनुपयोगी अपशिष्ट पदार्थ बच जाते हैं वे शरीर से बाहर निकाल दिए जाते हैं

अवशोषण क्या है – What is Absorption in Hindi

भोजन के सेवन व पाचन के बाद बचे अपशिष्ट को शरीर से बाहर निकालने की संपूर्ण क्रियाविधि के बीच की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया अवशोषण है. पाचन के बाद पोषक तत्वों के छोटे-छोटे घटकों में विभाजित सरल रूप, छोटी आंत में अवशोषित हो जाते हैं और उचित उपयोग के लिए शरीर के विभिन्न भागों में ले जाए जाते हैं

किसी पोषक तत्व के अवशोषण की दर जितनी ज्यादा होती है शरीर द्वारा उस पोषक तत्व का इस्तेमाल भी उतना ही अधिक होता है. लेकिन पोषक तत्वों का अवशोषण कई कारणों से बाधित होता है व कभी भी 100% नहीं होता

आहार में मौजूद फायबर, फायटेट, ऑक्जालेट, टेनिन जैसे कई गैर-पोषक तत्व और कभी-कभी खाद्य पदार्थों में मौजूद कुछ ज़रूरी पोषक तत्व भी अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्वों के पूर्ण अवशोषण में बाधा पहुंचाते हैं

बुढ़ापा, शारीरिक सक्रियता की कमी, अनियमित जीवन शैली, खान-पान की बुरी आदतों तथा कुछ बीमारियों के कारण भी इनका अवशोषण घट जाता है. अवशोषण बाधित होने के कारण शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने से विभिन्न रोग हो सकते हैं

न्यूट्रिशन का महत्व – Importance of nutrition in Hindi

प्रत्येक दिन हमारे भोजन का चयन हमारे स्वास्थ्य यानि हमें आज, कल और भविष्य में कैसा महसूस होगा इसे प्रभावित कर सकता है. अच्छा पोषण एक स्वस्थ जीवन शैली का महत्वपूर्ण भाग है

शारीरिक गतिविधियों के साथ-साथ हमारा आहार, स्वास्थ्य अनुरूप सही शारीरिक वज़न को पाने व उसे नियंत्रित रखने, समय के साथ पनपने वाले गंभीर रोगों (हृदय रोग, डायबिटीज़) आदि के जोखिम को घटाने तथा संपूर्ण स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है

आहार से प्राप्त प्रत्येक पोषक तत्व की हमारे शरीर में एक विशेष भूमिका होती है. अच्छा पोषण इम्यूनिटी व ऊर्जा बढ़ाता है, बच्चों के विकास व वृद्धि, उनकी एकाग्रता व स्मरण शक्ति को बढ़ाता है, त्वचा और बालों की बनावट सुधारता है, असमय बुढ़ापे से बचाता है और हमें स्वस्थ व लंबा जीवन जीने में मदद करता है

संतुलित आहार अच्छे स्वास्थ्य और खुशहाली के लिए महत्वपूर्ण है. भोजन हमारे शरीर को उचित विकास, स्वस्थ जीवन और ठीक से कार्य करने के लिए ऊर्जा, आवश्यक फैट, प्रोटीन, विटामिन्स, मिनरल्स व फायबर प्रदान करता है. हमें विभिन्न आहार लेने चाहिए जिससे हमें अच्छे स्वास्थ्य के लिए पर्याप्त मात्रा में सभी पोषक तत्व मिल सकें

खाने-पीने की खराब आदतों के कारण लोगों में मोटापा बढ़ रहा है. ज्यादा वजन वाले व्यक्तियों में भी अस्वास्थ्यकर आहार के कारण गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम बढ़ सकते हैं. हृदय-रोग और टाइप-2 डायबिटीज़ जैसी बीमारियां हो सकती हैं और असमय मृत्यु भी हो सकती है

समझदारी से अपने भोजन का चयन करके हम इन स्वास्थ्य समस्याओं से खुद को बचा सकते हैं. खान-पान की बुरी आदतों और बढ़ते वज़न के कारण वयस्कों में होने वाली गंभीर बीमारियों के आसार युवाओं में भी अक्सर दिखने लग गए हैं

बचपन में पड़ने वाली अच्छी-बुरी खान-पान की आदतें अक्सर वयस्क होने तक वैसी ही रहती हैं. इसलिए कम उम्र से ही बच्चों को स्वास्थ्यकर आहार लेने की आदत डलवाने से उन्हें जीवन भर स्वस्थ रहने में मदद मिलेगी

न्यूट्रिशन साइंस का महत्व – Importance of nutrition science in Hindi

न्यूट्रीशन साइंस की मदद से पोषक तत्वों की कमी की पूर्ति की जा सकती है. विज्ञान ने काफी तरक्की की है और विभिन्न नई तकनीके शरीर में पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ा सकती है

न्यूट्रीशन साइंस की मदद से खाद्य पदार्थों व वनस्पति, जड़ी-बूटियों में मौजूद पोषक तत्वों के साथ-साथ विभिन्न Phytochemicals (पेड़-पौधों के लाभदायक रसायनों) को उनके गाढ़े, शुद्ध रूप में Extract किया जा सकता है व इनके सप्लीमेंट उपलब्ध हैं

पौधों से निकाले गए इन विशुद्ध पोषक तत्वों में कोई अन्य तत्व या अशुद्धि नहीं होती जो इनके अवशोषण में बाधा उत्पन्न करे. इस तरह न्यूट्रीशन साइंस पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ाने में मदद करती है. ताकि शरीर उनका पूरी तरह से उपयोग कर सके और अच्छे स्वास्थ्य के लिए उनके विभिन्न लाभों को प्राप्त कर सके. आइए एक उदाहरण के माध्यम से समझते हैं

उदाहरण - सोया प्रोटीन आयसोलेट, सोयाबीन से प्राप्त प्रोटीन का एक शुद्ध सत्व (एक्सट्रेक्ट) है. इसमें 90 से 95 प्रतिशत शुद्ध प्रोटीन होता है इसलिए शरीर में यह अपेक्षाकृत ज्यादा उपलब्ध होता है. सोयाबीन के सेवन से प्रोटीन की इतनी ज्यादा मात्रा उपलब्ध नहीं होती क्योंकि इसमें सोया प्रोटीन के अवशोषण को बाधित करने वाले कुछ अवरोधक तत्व मौजूद होते हैं. न्यूट्रीशन साइंस की मदद से सोया प्रोटीन आयसोलेट प्राप्त किया जा सकता है व सप्लीमेंट के रूप में सेवन के लिए उपलब्ध होता है

दोस्तों अंत में बस इतना कहना चाहता हूं अच्छे पोषण (न्यूट्रीशन), सही वज़न, गंभीर रोगों के जोखिम में कमी और संपूर्ण स्वास्थ्य के बीच के गहरे संबंध को अनदेखा नहीं किया जा सकता

स्वास्थ्यकारी आहार लेकर हम अपने शरीर के स्वस्थ, सक्रिय और मज़बूत रहने के लिए ज़रूरी पोषक तत्वों को प्राप्त करने का प्रयास कर सकते हैं लेकिन फिर भी हमारे आहार में इनकी कमी रह जाती है

हेल्थ सप्लीमेंट इनकी कमी को दूर करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं. हेल्थ सप्लीमेंट हमारे आहार के विकल्प नहीं हैं व भोजन द्वारा मिलने वाले पोषक तत्वों का स्थान लेने के लिए नहीं बनाए गए हैं. हेल्थ सप्लीमेंट तो उन पोषक तत्वों की पूर्ती करने के लिए होते हैं जिन्हें हम आहार में पर्याप्त मात्रा में नहीं लेते या जिनको हमारा शरीर पूर्णतः अवशोषित नहीं कर पाता

हेल्थ सप्लीमेंट से मिलने वाले विभिन्न तत्व अपने मूल स्वरूप में प्राकृतिक खाद्य पदार्थों से प्राप्त किए जाते हैं और स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं

संक्षेप में

दोस्तों अगर आपको न्यूट्रिशन क्या है – Nutrition meaning in Hindi और इसका महत्व यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिएगा

अगर आप भी स्वास्थ्य संबंधी जानकारियों को जानने के इच्छुक है तो MDS BLOG के साथ जरूर जुड़े जहां कि आपको इसी तरह की कई अच्छी-अच्छी जानकारियां दी जाती है. यह पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please allow ads on our site !

Looks like you're using an ad blocker. We rely on advertising to help fund our site.