Hindi Speech

शिक्षक दिवस पर भाषण हिंदी में

क्या आप शिक्षक दिवस पर भाषण (Teachers Day Speech in Hindi) तलाश कर रहे हैं तो आप एकदम सही जगह पर आ गए हैं

इस पोस्ट में आज मैं आपको बताऊंगा 5 सितंबर पर भाषण कैसे आप बोल सकते हैं. जोकि सभी स्टूडेंट्स के लिए एकदम सही है. तो आइए भाषण गजब के 5 भाषण जानते है

1) शिक्षक दिवस पर 10 लाइन भाषण – Shikshak Diwas Speech in Hindi

  • आप सभी को मेरा सादर नमस्कार
  • मेरा नाम …….. है
  • आज 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस है
  • सर्वप्रथम आप सभी को शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !
  • 5 सितंबर को डा० सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के रूप में मनाते हैं
  • डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत के महान शिक्षाविद् और राष्ट्रपति भी थे
  • शिक्षक हमें ज्ञान देने के साथ ही साथ हमारे उज्ज्वल भविष्य के लिए हमारा उचित मार्गदर्शन व सही दिशा भी देते हैं
  • जिस प्रकार एक कुम्हार मिट्टी को बर्तन का आकार देता है ठीक उसी प्रकार शिक्षक भी हमारे जीवन को आकार देते हैं
  • किसी भी देश को महान बनाने में शिक्षक का महत्वपूर्ण योगदान होता है
  • हमें हमेशा अपने शिक्षकों का आदर व सम्मान करना चाहिए

2) 5 सितंबर पर भाषण – 5 September Speech in Hindi

5 September Speech in Hindi

“रोशनी बनकर आये जो हमारी जिंदगी में
ऐसे गुरुओं को प्रणाम करता हूँ
जमीन से आसमान तक पहुँचाने का रखते है जो हुनर
ऐसे टीचर्स को मैं दिल से सलाम करता हूँ”

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, सभी शिक्षकगण और मेरे प्यारे साथियों, सबसे पहले आप सभी को शिक्षक दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएँ ! शिक्षक दिवस के इस शुभ अवसर पर मैं आप लोगों के समक्ष हमारे जीवन में शिक्षकों का महत्व के प्रति दो शब्द रखने जा रहा हूँ

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज 5 सितम्बर है. इस दिन को हम सभी शिक्षक दिवस के रूप में मनाते हैं. यह दिन भारत के दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिवस है

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक शिक्षक थे और वह अपने छात्रों के कहने पर देश के राष्ट्रपति भी बने. यह सच कहा गया है कि शिक्षक एक सभ्य समाज का आधार होता है. शिक्षक छात्रों को सही दिशा दिखाते हैं और उनके व्यक्तित्व को विकसित करते हैं

शिक्षकों के बारे में यह भी सही कहा गया है कि एक शिक्षक माता-पिता से भी महान होता है क्योंकि माता-पिता अपने बच्चे को जन्म देते हैं और उनकी परवरिश करते हैं. जबकि एक शिक्षक उनके सही व्यक्तित्व के साथ-साथ उनका भविष्य भी उज्जवल करता हैं. इसलिए हम अपने शिक्षक को कभी नहीं भूल सकते हैं

दोस्तों, हमें हमेशा गुरु की आज्ञा और सलाह को मानना चाहिए और उनके द्वारा बताए गए रास्ते पर चलना चाहिए. जिससे हम एक अच्छे इंसान बन सके क्योंकि अच्छे इंसान से अच्छे नागरिक और अच्छे नागरिकों से देश महान बनता है. एक शिक्षक ज्ञान का वो सागर है जिसके ज्ञान कि बूँद भी अगर हम सही तरीके से जीवन में उतार लें तो हमारा जीवन धन्य हो जाएगा

शिक्षक हमारे समाज के निर्माता है. शिक्षक ही छात्रों के व्यक्तित्व को आकार देते हैं और देश का आदर्श नागरिक बनाकर राष्ट्र के विकास और कल्याण में अपना महत्वपूर्ण योगदान देते हैं. शिक्षक में संसार निहित है. ऐसे महान व्यक्तित्व को मैं एक बार फिर से कोटि-कोटि नमन करता हूँ

धन्यवाद !

जय हिन्द, जय भारत !

Read More :-

3) शिक्षक दिवस पर भाषण – Best Teacher’s Day Speech in Hindi

शिक्षक दिवस पर भाषण

आज के इस समारोह में उपस्थित अतिथिगण, विद्वान शिक्षकगण और मेरे प्यारे साथियो सभी को शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए मैं दुनिया के प्रत्येक शिक्षक को शत-शत नमन करता हूं

जैसा कि हम सब जानते हैं आज हम एकत्रित हुए हैं शिक्षक दिवस मनाने के लिए, तो सबसे पहले मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि शिक्षक दिवस आज ही क्यों मनाते हैं और इसे मनाए जाने का क्या उद्देश्य है ?

शिक्षक दिवस पूरे भारतवर्ष में प्रत्येक वर्ष 5 सितंबर को डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के उपलक्ष में मनाया जाता है. जो भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति और द्वितीय राष्ट्रपति के साथ-साथ दार्शनिक, शिक्षाविद और महान शिक्षक थै

इनका शिक्षा के प्रति इतना अधिक रुझान था कि यह हमेशा अपने विद्यार्थियों को शिक्षा देकर उनके जीवन को उच्च स्तर तक ले जाना चाहते थे और हमेशा अपने विद्यार्थियों से यही चाहते थे कि इनका जन्मदिन व्यक्तिगत ना होकर एक शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाए

तभी सन 1962 से भारत में 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा जिसका मुख्य उद्देश्य है प्रत्येक शिक्षक को सम्मानित करना

गुरु ब्रह्मा, गुरु विष्णु
गुरु देवो महेश्वर
गुरु साक्षात परम ब्रह्म
तस्मै श्री गुरुवे नमः

इन पंक्तियों में शिक्षक का हमारे जीवन में क्या महत्व है इसका सम्पूर्ण सारांश छुपा हुआ है. एक कक्षा में लगभग 30 से ज्यादा छात्र-छात्राएं एक साथ पढ़ते हैं और प्रत्येक विद्यार्थी का अपना अलग सपना और लक्ष्य होता है

कोई इंजीनियर, तो कोई डॉक्टर, कोई एक्टर बनना चाहता है कैसे होता है इनका सपना पूरा, सोचा है कभी कौन है जो एक मजबूत स्तंभ की भूमिका निभाते हुए हमारे जीवन को आकार देता है, हमारी अपनी पहचान बनाता है. तो दोस्तों चलो जानते हैं उसी व्यक्तित्व के बारे में :-

वो अपने ज्ञान की ज्योति से घर-घर दीप जलाते हैं
वो अपने ज्ञान की ज्योति से घर-घर दीप जलाते हैं
जो हमें पाठ पढ़ाकर, राष्ट्र निर्माता कहलाते हैं
कभी डांट कर तो कभी प्यार से
कभी डांट कर तो कभी प्यार से
हमें हमारी गलती बताते हैं
हमें अनुशासित करके
एक अच्छे शिक्षक कहलाते हैं
अज्ञानता के काले बादल हटाकर
अज्ञानता के काले बादल हटाकर
ज्ञान की रोशनी फैलाते हैं
सदैव सत्य मार्ग पर चलने की प्रेरणा देकर
असली पथ प्रदर्शक कहलाते हैं
असली पथ प्रदर्शक कहलाते हैं

शिक्षक का मतलब गहराई से समझें तो

शि —> शिखर तक ले जाने वाला
क्ष —> क्षमा करने वाला
क —> कमजोरी दूर करने वाला

शिक्षक मानो होता है शिल्पकार
पत्थर को जो देता आकर
कोई कच्ची मिट्टी तपाकर
मिटाता हो विकार
जहां गुरु रूप प्रकाश विद्यमान हो
वहां कैसे फिर अज्ञानता का अंधकार हो
ब्रह्मा, विष्णु, महेश का प्रारूप है
वह गुरु धरती पर देव स्वरूप है
धरती पर देव स्वरूप है

अंत में अपने शब्दों को विराम देने से पहले यही कहना चाहूंगा कि शिक्षक दिवस कोई एक दिन का मोहताज नहीं, शिक्षक सम्मान सदैव हमारे हृदय में विराजमान रहना चाहिए क्योंकि हमारे जीवन का आधार एक शिक्षक का दिया हुआ ही आकर है

धन्यवाद !

Read More :-

4) शिक्षक दिवस पर भाषण – Teachers Day Speech in Hindi Shayari

Shikshak Diwas Speech in Hindi

“दिया ज्ञान का भंडार हमें
किया भविष्य के लिए तैयार हमें
हैं आभारी उन गुरुओं के हम
जिसने किया कृतज्ञ अपार हमें”

माननीय प्रधानाचार्य महोदय, सभी सम्मानित शिक्षकगण, आज के मुख्य अतिथि और मेरे सभी भाइयों और बहनों आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार. सर्वप्रथम आप सभी को शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज शिक्षक दिवस है और शिक्षकों के सम्मान में आज हम सब यहाँ पर एकत्रित हुए हैं. हमारे भारत देश में प्रतिवर्ष 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस सभी शिक्षण संस्थानों में बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है

5 सितम्बर को डा० सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन होता है. वे एक महान, विद्वान लेखक तथा एक आदर्श शिक्षक थे. उन्होंने अपने जीवन में कई महान उत्तरदायित्वों को बहुत अच्छे तरीके से निभाया

वे एक विद्वान शिक्षक होने के साथ-साथ भारत के उपराष्ट्रपति व राष्ट्रपति भी थे. उनके अनेक श्रेष्ठ कार्यों के लिए उन्हें भारत रत्न पुरस्कार से भी पुरस्कृत किया गया था और इसीलिए उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है

शिक्षक किसी भी व्यक्ति के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. हमें अपना जीवन तो हमारे माता-पिता से मिला लेकिन उस जीवन का सदुपयोग करना हम अपने शिक्षक से सीखते हैं

“मिट्टी को जिसने सोना बनाया
जिन्दगी को जीना सिखाया
लक्ष्य भेदने का जिसने मार्ग दिखाया
उन गुरुओं को शत-शत प्रणाम”

वे शिक्षक ही हैं जो हमें हमारे भविष्य का निर्माण करने का मार्ग दिखाते हैं. शिक्षक सिर्फ वे ही नहीं जो हमें स्कूलों व कालेजों में शिक्षा देते हैं बल्कि हर व्यक्ति के जीवन में ऐसे बहुत से शिक्षक होते हैं, जिनसे वे बहुत कुछ सीखते हैं

इसलिए हमें अपने हर शिक्षक का सम्मान करना चाहिए. क्योंकि बिना उनके मार्गदर्शन के हमारा जीवन अन्धकारमय होता और हमें अपने हर शिक्षक को धन्यवाद देना चाहिए जिनकी सहायता से आज हम यहाँ तक पहुँचे है. इसी के साथ मैं अपनी वाणी को विराम देता हूँ

“ज्ञान देने वाले गुरू का वंदन है
उनके चरणों की धूल भी चंदन है”

धन्यवाद !

Read More :-

5) शिक्षक दिवस पर भाषण – Teachers Day Speech in Hindi 2023

Teachers day Speech in Hindi

“जो बनाए हमें इंसान
और दे सही गलत की पहचान
देश के उन निर्माताओं को
हम करते हैं शत-शत प्रणाम”

यहाँ उपस्थित सभी विद्वान शिक्षकों और सभी प्यारे साथियों को सुप्रभात. सर्वप्रथम शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

शिक्षक दिवस के इस शुभ अवसर पर मुझे मेरे विचारों को व्यक्त करने का मौका दिया गया इसके लिए मैं आप सभी का आभार व्यक्त करता हूँ

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि एक पक्की नींव पर ही एक अच्छा और शुद्ध भवन खड़ा किया जा सकता है, ठीक उसी प्रकार से शिक्षक ही वह व्यक्ति है जो विद्यार्थी रूपी नींव को सुदृढ़ करके उस पर भविष्य में सफलता रूपी सुदृढ़, मजबूत भवन खड़ा करने में सहायता करता है और उसे एक सफल इंसान बनाता है

अत: प्रत्येक विद्यार्थी के जीवन में शिक्षक एक महत्वपूर्ण भूमिका रखता है, इसलिए उसका सम्मान बहुत ही आवश्यक है. एक प्रचलित दोहे में कबीरदास जी कहते हैं :-

‘गुरु गोविंद दोउ खड़े, काके लागूं पाँय
बलिहारी गुरु आपने, गोविंद दियो बताय “

अर्थात जब आपके सामने गुरु और भगवान दोनों ही खड़े हों तो आप सर्वप्रथम किसे प्रणाम करेंगे ? गुरू ही आपको गोविंद अर्थात भगवान तक पहुँचने का मार्ग प्रशस्त करता है अर्थात गुरू महान है और आपको अपने गुरु का ही वंदन सर्वप्रथम करना चाहिए

महोदय, वैसे तो शिक्षक सम्मान के लिए किसी दिन के मोहताज नहीं परन्तु फिर भी कई देशों में शिक्षकों के सम्मान के लिए एक विशेष दिन घोषित किया गया है

भारत देश में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है. इस दिन डा० सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन हुआ था. उनका शिक्षा के प्रति विशेष रुझान था, उनका मानना था कि बिना शिक्षा के व्यक्ति अपनी मंजिल तक नहीं पहुंच सकता है

यही कारण है कि उनके और उनके द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में दिए गए योगदान को देशवासियों का सबसे बड़ा सम्मान दिए जाने के लिए उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है. वैसे भी भारत एक ऐसा देश है जहाँ प्राचीन काल से ही शिक्षकों को विशेष सम्मान दिया जाता रहा है

महोदय मैं दिल से प्रणाम करता हूँ उन महान शिक्षकों को जो हमें जौहरी की तरह तराश कर हीरा बनाते हैं. ऐसे महान व्यक्तित्व वाले शिक्षकों के लिए मैं शब्दों में क्या बयां करूँ, उनके लिए तो दुनिया का हर शब्द छोटा पड़ जाएगा फिर भी उनके सम्मान में दो शब्द समर्पित करता हूँ :-

“एमिट्टी से जिसने सोना बनाया
जिन्दगी को जीना सिखाया
लक्ष्य भेदने का जिसने मार्ग दिखाया
उन गुरू को शत-शत प्रणाम”

धन्यवाद !

संक्षेप में

उम्मीद है आपको शिक्षक दिवस पर भाषण (Teachers Day Speech in Hindi) अच्छा लगा होगा. अगर आपको भाषण अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिएगा ताकि शिक्षक दिवस पर अच्छे से भाषण कैसे बोला जाता है वे सभी भी जान सके

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी ?

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं, इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें

MDS Thanks 😃

पोस्ट अच्छी लगी तो सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी !

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे बेहतर बना सकते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Please allow ads on our site !

Looks like you're using an ad blocker. We rely on advertising to help fund our site.